बारां (वराहनगरी) जिला दर्शन

बारां जिला (वराहनगरी) 

1 महत्वपूर्ण                 
*      प्राचीन काल (oldest age)  में बारां भगवान विष्णु bagavan visanu)  के वराह अवतार के कारण वराहनगरी के नाम से जाना जाता है ।यहां 15 वीं सदी से पूर्व सोलंकी राजपूतों (solanki rajputo)  का शासन था। स्वतंत्रता के पश्चात राजस्थान(raj.)  के गठन 30 मार्च (march) 1949 के बाद कोटा (kota) जिले में शामिल किया गया 10 अप्रैल 1991 को कोटा से पृथक कर बारां जिले का गठन किया गया। बारां शहर के मध्य से पार्वती(parvati)  की सहायक नदी बाणगंगा बहती है।  बारां जिले में सहरिया जनजाति (st) सर्वाधिक (more)  पाई जाती हैं।

2    क्षेत्रफल (aria)      6992 वर्ग किलोमीटर 
                                                                                3    त्योहार व मेले    ( फेस्टिवल एंड फयर) 
                                                  
   (A) सीताबाड़ी का मेला(sitabadi ka)   (धार्मिक व पशु मेला)  इस मेले को सहरिया जनजाति (st)  का कुंभ कहा जाता है । यह मेला सीताबाड़ी केलवाड़ा के पास भरता है।  इस मेले में  सहरियाओं का स्वयंवर होता है।  यह मेला प्रतिवर्ष(every year)  जेष्ठ  अमावस्या को  भरता है।                                                                                                                       
    (B)  डोल मेला  यह मेला डोल तालाब ( बारां) में भरता है। इस मेले में देवविमानों  सहित शोभा यात्रा (shibha yata) निकलती है।  यह मेला प्रतिवर्ष जलझूलनी एकादशी (11)( भाद्रपद शुक्ला 11) को भरता है।                                                                  

   (C)   फूलडोल (fuldol)  शोभा यात्रा उत्सव   (श्रीजी का भव्य मेला) यह मेला किशनगंज तहसील बारां में भरता है ।यह मेला प्रतिवर्ष (every year)  फाल्गुन पूर्णिमा (होली) को भरता है ।   
                                                 
(D) बिजासण माता (bijasan mata)  का मेला यह मेला छाबड़ा बारां में भरता है। 

(E)  ब्राह्मणी माता (mata) का मेला    यह मेला सोरसन  के पुराने दुर्ग (फोर्ट)  में भरता है।  इस मेले में गधों (donkey)  का मेला भी लगता है।                                                                                         
प्रमुख मंदिर  (टेम्पल)                                                              
  (a)  भण्डदेवरा शिव मंदिर (shiv mandir)          इस मंदिर को हाङौती का खजुराहो (khajuraho)  कहा जाता है।  यह मंदिर 10 वीं सदी में नागर शैली (nagar saili) में निर्मित है। भण्डदेवरा का अर्थ होता है टूटा फूटा देवालय (devalay) ।  इसका निर्माण मेदवंशीय  राजा मलयवर्मन द्वारा किया गया  यह मंदिर पंचायतन शैली(shaili)  का उत्कृष्ट नमूना है । इस मंदिर को राजस्थान का मिनी खजुराहो (mini khajurahi) कहा जाता है।                                                                                                   
  
 (b)  ब्राह्मणी माता का मंदिर यह मंदिर सोरसन (sorasan) के समीप है। इसे शैलाश्रय गुहा  मंदिर (guha mandir)  भी कहते हैं।  यहां  ब्राह्मणी माता की पीठ(peeth)   पर श्रृंगार किया जाता है  एवं भगतगण माता की पीठ के दर्शन करतेे हैं।  यहां झालावाड़ के संस्थापक झाला जालिम सिंह (jhala jalim singh)  ने सीढ़ियां बनवाई थी।                                                                                                                             
अन्य मंदिर  व मस्जिद  (masjid)        शाही जामा मस्जिद (jama) (शाहबाद) काकुनी मंदिर ( छीपाबङोद ) बांसथुङी का मंदिर (बासथूणी) गङगच्च देवालय (बारां)                                                                                                                                  
 पर्यटन में दर्शनीय स्थल   
                                          
(1)  सीताबाड़ी केलवाङा गांव (village) के निकट स्थित यहां सीता व  लक्ष्मण (sita and laxman)  का प्राचीन मंदिर ( ओल्ड टेंपल)  तथा  वाल्मीकि मंदिर है।  यहां प्रसिद्ध (फेमस)   लक्ष्मण कुंड,  वाल्मीकि आश्रम,  सीताकुंड, सूरजकुंड  , रावण तलाई (ravan)  , आदि स्थित है।  यह  सहरिया जनजाति (st) का कुंभ माना जाता है  क्योंकि वे यहां मृतकों (deaded)  के  अस्थि कलश भी प्रवाहित करते हैं।                           

(2)  अन्य दर्शनीय स्थल   
                                      
   नेकनाम बाबा की दरगाह(nekname baba) 
(नाहरगढ)  बङगांव की बावड़ी (अतां) शाहाबाद दुर्ग (बारां ) थानेदार नाथू सिंह (nathu singh)  की छतरी (शाहबाद) औस्तीजी की बावङी व तपसी बावङी (शाहबाद) मौखरी युप (maokhri)  चार स्तूप (बङवा)                                                                                                                     
    (3)  शाहाबाद दुर्ग (shahabad fort)    सन 1521 में चौहाान राजा मुकुट मणि देव (mukut mani dev) द्वारा मुकुंदरा पर्वत श्रेणी की भामती (bhamti)  पहाड़ी पर निर्मित दुर्ग।   इसमें सावन भादो (savan bhado)  महल स्थित है।                                                                                                         
  (4) शेरगढ़ दुर्ग   इस दुर्ग (fort) को कोशववर्धन दुर्ग भी कहा जाता है। यह दुर्ग अटरू तहसील में परवन नदी(parvan river)  के किनारे स्थित है।                                                                             
    (5)  कपिलधारा तीर्थ यह किशनगंज (kishanganj) तहसील में स्थित है।                                                                                 

(6) काकोली पुरास्थल
Share :

नमस्कार दोस्तो मे गूदर राम current classes का co-founder & author हू में सरकारी शिक्षक हू current classes मैं आपको सभी प्रकार कि शिक्षा सम्बधित जानकारी दी जायेगी। आप भी मेरा साथ देने के लिये currentclasses.com ब्लोग को पदकर योगदान दे सकते हे। ओर current classes के सभी social page को फोलो करे।

Leave a Comment