पिट्स इंडिया एक्ट, 1784 (Pitt’s India Act, 1784)

पिट्स इंडिया एक्ट, 1784 (Pitt’s India Act, 1784)
                                                              रेग्यूलेटिंग एक्ट,  1773 के दोषों को दूर करने के लिए ब्रिटिश (Uk)  संसद ने ‘संशोधन एक्ट,  1781’  पारित किया जिसे एक्ट ऑफ़ सेटलमेंट के नाम से जाना जाता है। इसके बाद 1784 में ‘पिट्स (pitt’s)  इंडिया एक्ट’  पारित किया गया। उस समय भारत (india) के गवर्नर जनरल वारेन हेस्टिंग्स थे।  इस अधिनियम का यह नाम तत्कालीन ब्रिटिश प्रधानमंत्री पिट (uk pm pit)  के नाम पर रखा गया। इस अधिनियम के प्रमुख (important)  प्रावधान निम्नलिखित है_                                    
1. इसके तहत ईस्ट इंडिया (india)  कंपनी के भारत (bharat)  से संबंधित मामलों को ब्रिटिश सरकार (Uk government) के प्रत्यक्ष नियंत्रण में लाया गया।  इस अधिनियम द्वारा कंपनी के अधीन भारतीय (indian)  प्रशासन को ब्रिटिश संसद और सरकार (government) के अधीन ‘ब्रिटिश आधिपत्य का क्षेत्र’  कहा गया।                                           
2. कंपनी के ‘संचालक मंडल’ के नियंत्रण हेतु उसके ‘ऊपर बोर्ड ऑफ कंट्रोल’  की स्थापना की गई।  नियंत्रण (control)  बोर्ड को यह शक्ति थी कि वह ब्रिटिश नियंत्रित भारत में सभी (all)  नागरिक (people) ,  सैन्य सरकार व राजस्व गतिविधियों के निगरानी करें।     

3. इसने कंपनी के राजनैतिक (political)  और व्यापारिक कार्यों (work) को अलग_अलग (भिन्न)  कर दिया गया।                

4. इस अधिनियम द्वारा ब्रिटिश सरकार (uk government)  को भारत में कंपनी केे कार्यकलापों और इसके प्रशासन पर पूर्ण नियंत्रण ( कंट्रोल)  प्रदान किया गया।                            
5. 1793 में बंगाल (bangal) मेंं भू_राजस्व की स्थायी बंदोबस्त प्रणाली की शुरुआत हुई।                       
6. प्रथम बार द्वैध शासन लागूू किया गया।            
Share :

नमस्कार दोस्तो मे गूदर राम current classes का co-founder & author हू में सरकारी शिक्षक हू current classes मैं आपको सभी प्रकार कि शिक्षा सम्बधित जानकारी दी जायेगी। आप भी मेरा साथ देने के लिये currentclasses.com ब्लोग को पदकर योगदान दे सकते हे। ओर current classes के सभी social page को फोलो करे।

Leave a Comment